पाचन अच्छा हो और पेट साफ रहे तो खाना पीना अच्छा लगता है और शरीर भी चुस्त रहता है। आयुर्वेद मे कहा जाता है की अगर पेट ठीक तो सब ठीक। आधी से ज़्यादा बीमारी पेट की खराबी से होती है। अगर पाचन क्रिया ठीक से काम न करे और पेट साफ न हो तो कब्ज होने लगती है। आजकल कब्ज की शिकायत अधिकतर लोगो मे पायी जाती है। बच्चो को अभी से इसका ध्यान रखना चाहिए क्योकि कब्ज बनी रहने से मल दूषित होकर शरीर मे विषाक्त प्रभाव फैलता रहता है। जिससे कई रोग पैदा होते है। इसलिए आयुर्वेद मे कहा गया है की सभी प्रकार की व्याधियों का कारण मल का दूषित होना है। कब्ज से बचाव का पहला उपाय है सुबह शाम दोनों टाइम शौच जाना चाहिए। बहुत से लोग दिन मे सिर्फ एक ही बार शौच जाते है। कब्ज दूर करने के लिए आइए हम आयुर्वेद के कुछ घरेलू नुस्खो के बारे मे जानते है।

1: सुबह उठकर एक से दो गिलास गुनगुना पानी पीना चाहिए, अगर हो सके तो उसमे एक नींबू का रस भी मिला ले तो और भी उपयोगी होगा।
2: एक चोटी चम्मच आंवला का पाउडर रात मे सोने से पहले पानी या दूध से ले। इससे कब्ज दूर होती है। इसे शहद से भी ले सकते है।
3: सूखा साबूत आंवला 3-4 ग्राम रात को पानी मे भिगो दे। सुबह मसलकर छानकर इसका पानी पीने पी ले। कब्ज मे आराम मिलेगा।
4: छुहारा और आंवला एक–एक नग रात को पानी मे भिगो दे। सुबह मसलकर छानकर इसका पानी 2-2 चोटी चम्मच दिन मे 2-3 बार पीते रहे।
5: आड़ू का रस ½ कप रोजाना पीने से भी कब्ज दूर होती है।
6: सेब और चकुंदर का जूस पीते रहने से भी कब्ज़ दूर होती है।
7: आम खाकर दूध पी लेने से भी कब्ज़ मे आराम मिलता है।
8: सौंठ का पाउडर 2 ग्राम लेकर उसमे थोड़ा सा नमक मिलकर गरम पानी के साथ ले। कब्ज़ के शिकायत दूर हो जाएगी।
8: एक चोटी चम्मच हल्दी का पाउडर रोज़ सोने से पहले दूध के साथ लेने से कब्ज़ और बवासीर से छुटकारा मिलेगा।
9: अगर कब्ज़ अधिक परेशान करे तो एक कप नाशपाती का रस रोज़ पिये, कब्ज़ मे आराम मिलेगा।
10: संतरा के दो नग लेकर सुबह उसका रस निकाल ले और उसमे थोड़ा सा पानी मिलकर पिये। कुछ समय मे कब्ज़ मे आराम मालूम होगा।

आयुर्वेद के अनुसार कुछ मौसमी फल ऐसे है जिनका प्रयोग अगर हम नियमित करे तो कब्ज़ कभी होगी ही नहीं। पपीता और अमरूद यह तो खुद ही एक प्रकार की औषधि है। इनका नियमित उपयोग कब्ज़ को दूर रखता है। हरी पत्ते की सब्जी का उपयोग ज़्यादा करे, कच्ची सब्जी भी खाने मे शामिल करे। अधिक मसाले या तले हुए भोजन को कम करे।
हमारी रसोई मे ही सारे उपाय मौजूद होते है। अगर हम थोड़ा सा ध्यान दे तो कभी डॉक्टर के जाना नहीं पड़ेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *